दिल्ली का एक नमूना यहां आकर पूछता हैं कोरोना पर आपने क्या किया है? - सीएम योगी
Image Source : newindianexpress.com

उत्तरप्रदेश विधानसभा का मानसून सत्र चल रहा है । इसके तीसरे दिन उत्तरप्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने सदन में विपक्ष के प्रति आक्रामक दिखे है । उन्होने बोला कि हमने उत्तरप्रदेश के लोगों को कोरोना से बचाने में महत्वपूर्ण कार्य किया है। उत्तरप्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने बोला है कि दिल्ली के कुछ नमूने यहां आकर पूछते हैं आपने लोगों के लिए क्या किया है, क्या रणनीति बनाई है।

उत्तरप्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने दिल्ली और यूपी के आंकड़ों के साथ एक्जाम्पल पेश किया। कहा जा रहा है कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने इनडाइरैक्ट रूप से आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह पर व्यंग किया है। बीते कुछ समय से देखा जा रहा है कि संजय सिंह लखनऊ में सीएम योगी आदित्यनाथ की सरकार पर लगातार हमला बोल रहे थे ।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने बोला है कि, “दिल्ली का एक नमूना उत्तर प्रदेश में आता है और यहां आकर कहता है कि उत्तर प्रदेश में कोविड के खिलाफ कोई रणनीति नहीं बन पा रही है। जिन्होंने दिल्ली को बरबाद किया, जिन्होंने यूपी बिहार के लोगों को जबरन दुर्व्यवहार करके वहां से भगाया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं आकंड़े देखूं, यूपी की आबादी आज के दिन है 23 करोड़ 78 लाख और यूपी के अंदर कुल केस हैं एक लाख बहत्तर हजार, कुल सक्रिय केस हैं 48000, 2700 लोगों की मौत हुई है। कुल टेस्ट 41 लाख 84 हजार टेस्ट हुए हैं। हमारे पास 10 लाख पर कुल 744 केस हैं। मृत्यु दर 1.6 फीसदी है जो देश के अंदर सबसे न्यूनतम हैं।”

Image Source : theupkhabar.com

दिल्ली और यूपी के कोरोना ग्राफ

उत्तरप्रदेश और दिल्ली की तुलना करते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा, ‘दिल्ली से जो एक नमूना आता है इसको हम इसकी वास्तविकता बताते हैं, दिल्ली की कुल आबादी 1 करोड़ 80 लाख, दिल्ली में कुल पॉजिटिव केस हैं 1 लाख 56 हजार, दिल्ली में 4235 की मौत हुई है, दिल्ली में प्रति 10 लाख पर 7 हजार से अधिक केस हैं। प्रति दस लाख में दिल्ली में मृत्यु है 214, यूपी में है 12। दिल्ली की मृत्यु दर 2.7 है जबकि यूपी में 1.6 है।”

उत्तरप्रदेश में मानसून सत्र के तीसरे दिन सीएम योगी आदित्यनाथ विपक्ष पर पूरी तरह से अक्रामक रुख में रहे । सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि कुछ लोग तिलक-तराजू के नाम पर समाज में जहर घोलते हैं । राम और परशुराम में अंतर बताकर गंदी सियासत करते हैं। जातिवादी, विभाजनकारी, कुत्सित मानसिकता रखते हैं। इसी कारणवश देश की खुशी के साथ वे खुश नहीं हो सकते हैं । देश की खुशी के साथ वो लोग खुश हो सकते हैं जिनमें मर्यादा और धैर्य हो । लोकतंत्र बगैर लोकलाज के नहीं चलता है। झूठ का सहारा लेकर कुछ टाइम के लिए लोगों की आंखों में धूल झोंकी जा सकती है। परंतु ईश्वर सब देख रहा है । टाइम आने पर देश जवाब देगा । जनता जवाब देगी। 

ये भी पढ़े।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here