दिल को छु जाने वाली
Image Source : economics times.com

दिल बेचारा दिल को छू जाने वाली एक ऐसी कहानी है जो जीवन जीने की सीख देती है और कठिनाइयों से सामना करने की उम्मीद । इस मूवी में रियल चीज़े बहुत है और ये अपने टॉपिक के साथ न्याय भी करती है । बात करते है दिल बेचारा के कहानी की और करते है इसका रिव्यू ।

दिल बेचारा मूवी कैंसर सर्वाइवल लोगो की कहानी को व्यक्त करती है और बताती है कि जीने के लिए लंबी जिंदगी से ज्यादा छोटी जिंदगी में ही हर पल को जीना है । जिंदगी के लिए एक उम्मीद ही काफी है । अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने एमुनल राजकुमार जूनियर का किरदार निभाया है और संजना संघी ने किज्जी बासु का रोल निभाया है ।

ये कहानी शुरू होती है किज्जी बासु के बोलो से जिनमें वो अपनी कहानी को व्यक्त करती है और अपने जिंदगी की सारी कहानी ब्लॉग पर लिखती है उनके लाइफ में एंट्री होती है हीरो की जो कि थोड़ा पागल सा थोड़ा नटखट और अपने स्वभाव से दिल फेक आशिक़ होता है यानी सुशांत सिंह का ।

सुशांत अपने पांव को खों चुके होते है और निराशा से भरी संजना अपने जीवन को बहुत बोर महसूस करती है जिसे जीने का तरीका सुशांत सिखाते है । इस कहानी में एक गाने की वज़ह से संजना , सुशांत और संजना की मां पेरिस जाते है और वहां पर दिल को छू जाने वाले कुछ किस्से है जो आपको एक अहसास की याद दिलाते दिखेंगे ।

मूवी मे आप जितना आगे बढ़ेंगे उतना ही आप इससे रिलेट कर पाएंगे और आगे की कहानी खुद ब खुद पता चल जाएगा जिसमें आप खोते चले जाएंगे । ये मूवी आपको कहीं भी निराश नहीं करेगी । और ये मूवी आप अपने परिवार के साथ भी आराम से देख सकते है ।

निर्माता मुकेश छाबड़ा ने इस मूवी को ज्यादा घुमाया नहीं है और कहानी ज्यादा फिल्मी ड्रामा से भरी नहीं है इसलिए ये आम लोगों तक पहुंचती है । इस मूवी के गाने में एक सुकून का अहसास आता है और इसका एक डायलॉग दिल को छू जाता है जिसे ट्रेलर में भी दिखाया गया है “जन्म कब लेना है और मरना कब है हम डिसाइड नहीं कर सकते, पर कैसे जीना है वो हम डिसाइड कर सकते हैं।” ।

ओवरऑल ये मूवी अपने माप दंडो पर खरी उतरती है और इसने जिस मुद्दे को उठाया है उसे न्याय करती है । सभी को ये मूवी एक बार जरूर देखनी चाहिए । बता दे कि ये मूवी डिजनी प्लस हॉटस्टार पर फ्री में उपलब्ध है इसके लिए आपको प्रीमियम या वीआईपी का पैक लेने की जरूरत नहीं है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here